Friday, 10 June 2016

मेघा

वर्षों बीत गये तुम्हें
इस राह गुजरे
फूल, पत्ते मुरझा चुके
दो बूँद से खिलने वाला आक भी
पड़ चुका है पीला
दरख्तों की छाँव भी
खुद तक सिमटती जा रही है  
जैसे ओढ़े हो खुद ही
चिड़िया भी परिण्डो को सूखा देख  
माँ-माँ पुकार रही
जैसे गिन रही है अंतिम साँस
खाल लपेटे पड़ा कंकाल
तक रहा आकाश
जैसे अंतिम इच्छा हो
दो बूँद पानी
अन्न के बिना तो काल पसरता सदा ही  
जल भी अबकी बार
बटोर रहा
काल के हाथों पुरस्कार
  छाई हुई सफेदी चारों ओर  
  हिम नहीं हड्डियाँ हैं
  जो सुशोभित करती काल को  
  देती चमक
  किसी आँख को
  जिसकी दुआ है
  तेरा न होना
  आ जाओ मेघा
  किसी की जरूरत है हड्डियाँ  
  पर हमारी जिन्दगी हो तुम
  कैसे जियेंगे बिन तेरे
  देख तो सही
                                                                                         सूख चली माटी
                                                                                         तेरे इन्तजार में
                                                                                         तप रही चिता सी
                                                                                         जहां अस्थियों को ढूंढते हाथ भी  
                                                                                         थक जाते
                                                                                         जब आता प्रश्न
                                                                                         विसर्जन का
                                                                                            "एकला"

6 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "११ जून का दिन और दो महान क्रांतिकारियों की याद " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शिवम् सर🙏

      Delete
  2. जरत जरत जरत जरत जरत रही धरती, तपत तपत तपत रही तपती क्या करती,
    आ जाओ छा जाओ ओ कारे बदरा, इतना ना तरसाओ बहुत भयो नखरा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आशा मैम🙏

      Delete
  3. गहरे भाव ... बहुत संवेदनशील ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दिगम्बर सर🙏

      Delete